बचपन कि हर भोर से, मेरे  कर्णों में चहुँ ओर से 
 गूँज  रहा है तेरा नाम,अब ध्यान में हूँ चारों याम ....
माँ ने प्रेम बेल तब बोई,जब हृदय में न था कोई
अब तो चहुँ ओर फैल  गई, चाहे कछु कहा करे कोई .....

बाल मन के कोमल भाव ने,सजा लिया तुझे नयनों में
पवित्र ह्रदय की धारा में,बहा लिया है स्वयं को मैंने ....

समय की  धारा पर,जब अम्बर से बरसेगी धार
तब देखोगे मेरी प्रीत के सारे रंग,बाँधोगे मुझे अपनी डोर के संग....

इस आलौकिक  अनुभूति में,तेरे चिर अनुराग की प्रीति में
सीप का  मोती बनूँगी ,तेरे हृदय की तली में -मैं
जिस पर चढ़ेगी प्रेम की परत ,हो जाएगी  प्रेम की बढ़त पर बढ़त....

तेरे हर रूप को मैंने  बाँधा है अपने चार प्रहर में
कभी सखा -कभी प्यारा ,कभी प्राण - कभी सहारा....

चाह की चाह में खोती गई,परत पर परत रंगती गई
दिन दूनी रात चौगनी ,बनती गयी, मैं जीवन -संगनी....

बहती  गयी  प्रेम की धारा मैं ,भीगती रही और  तृप्त हुई मैं 
चाह न रही अब कोई ,मेरी  प्रीत   में रंग चढ़े है  कई....

"जो सेवा करते हैं वह प्रेम के अधिकारी  हैं "
ऐसा सुना था मैंने कहीं ,और मैंने पूजा बाल रूप से 
बिना सोचे विचारे निर्मल मन से,
चाहूँ तुम झलकते रहना ,मेरे  हृदय के नैनों से....

कोई मुझे देखे मन से,सिर्फ तुम्हें पाए वह मेरे नैनों में 
मुझे भी ऐसों  से मिलाना ,तेरा  प्रतिबिम्म पाऊँ  उनके नैनों   
तुझ से एकाकार होने का ,यही   मार्ग मुझे सूझता है....

सब कहत है ,मैं हो गई बावरी ,कहूँ मैं हो गई साँवरे  की साँवरी
सुन लो तुम अरज हमारी ,सामने तुम हो,जब आँखें मूंदे  हमारी....

जन्म मरण के चक्र में न उलझाना,  जीवन की अभिलाषा हमारी
बना देना चाहे झाँझर, चरणों की तुम्हारी
बजती और पड़ी रहूँगी शरण तिहारी
या तो बना देना यशोदा माँ की अन्गुरियाँ
लेती रहूँगी  सदा में ,तेरी बलईयाँ....
तुम न  मानो हमें अपना घनश्याम,अधरों पर मेरे नाम है तुम्हारा सुबह-शाम.....
तेरे संग ने मुझमें,जीने की ऐसी अलख जगाई
इन आनंदाश्रुओं को मैं न कभी रोक पाई
सोचती हूँ जाने दो धुल,ह्रदय का अंतनिर्हित मैल.....
होगा निर्मल  मन का धरातल और बीतेगा कृपा से हर-पल
होगा तेरा-मेरा अटूट ऐसा नाता ,बन जाऊंगी मैं तेरी मुदिता .....

अब मैं क्यों करूं किसी से अरज ,बन चुकी हूँ मैं चरणों की रज  
यह  है प्रेम की अजब भाषा ,इसे कब,कौन और कहाँ है समझा 
यह तो है "कृष्ण -प्रेम की मंजूषा",न चाहूँ इस से बहार निकलना
यह है मेरे ह्रदय की अर्जी , समझना चाहो तो तुम्हारी है मर्जी ....
मैं पिघल कर भी जा रही ,ना बदलेगी मेरी यह धारा
ठोकर,मोड़ बाधा न रही,क्यों की मैं बनी "प्रेम की धरा"......

मेरे जीवन के हवन कुंड में ,हर ग्रास में तेरी भक्ति की आहुति हो ...तेरी कृपा की तेज अग्नि से ,मेरा  जीवन आलोकित  हो
तेरी तेज अग्नि की लालिमा से ,
मेरे चेहरे की आभा दमके , जिसमे प्रेम की धारा बहे....
तेरी प्रीत ने अलख जगाई है मुझमेंऔर ऐसी रीति की डोर बाँधी है
जिसमें मैं बही जा रही हूँ......
यह जीवन का कौन सा मौन प्रवाह है ,जिसमें स्वयं  को पा जाती हूँ 
तेरे चिर अनुराग  से एकाकार  होने का अहसास है 
हे कान्हा ! मैं बहती  ही रहना चाहती हूँ ,जिसमें मैं ,मैं नहीं रह जाती हूँ ......
लगता हे तेरे चरणों  में झांझर बन  पड़ी हूँ 
जहाँ ...न अहंकार है....स्वाभिमान है...न मान है ....
ना इच्छा ....ना अधिकार ....ममता ....ना चाह ....
सिर्फ आंतरिक मौन ....एकाकार ....एकांत .....

मैं हूँ ऐसे जहाज का पंछी,जो चहूँ ओर भ्रमण कर लौटे
चाहे मन भटक जाये चहूँ ओर पर सांझ होते लौटे तेरी ओर
जब तेरे विचार में  खोती हूँ ,तो तन-मन के कष्टों  से दूर रहती हूँ 
यह कैसी चेतना अवस्था है ....
कैसी तेरी कृपा की डोर है,जो मुझे तुझसे बाँधी रहती है 
तेरे प्रेम के आगे सारे बंधन  तुच्छ से प्रतीत होते है....

तुझ से मिलने आऊँगी मैं,तेरे ही बसाये राधे-कुँज में
लोग कहते है आंसा नहीं है,ह्रदय का तुझ से मिलना
क्यों नहीं उतरते तेरे नयनों में
लेकर मन में तेरे लिए सरलता...सहजता...और सरसता....
जिनसे ह्रदय में भरता सदा प्रेमाश्रु
तुझे पाने का यह उपाय सदा मुझे है सूझता ......

प्याला कृष्ण नाम का,अधरों पर लगा ले
प्यास की अलख जगा ले .....
तू मतवाला बन जायेगा,चरणों में स्वयं को पायेगा
समर्पण से शांति  पायेगा,चिंता से मुक्त जीवन जियेगा
प्रिय प्याला जितना उतरेगा,उतना मन में धीर धरेगा
अपनी नाव प्रेम-धारा में बहा रे,उतरेगा  क्षीर -सागर प्रभु द्वारे  ......

38 comments:

  1. भक्ति रस से सराबोर रचना.....

    ReplyDelete
  2. सोच, शब्द, भाव और अहसास - बहुत खूब

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी पोस्ट..
    Prarthana जी आपके profile me Gender: Male लिखा है उसे ठीक करलीजिएगा...माफी चाहूंगा मेरी सलाह को अन्यथा न लें

    ReplyDelete
  4. prarthana ji,
    sarvpratham mere blog par aane ke liye dil se dhanyvaad. krashn bhakti ke rang me dubi aapki is rachna ne prem-diwaani meera ki yaad dila di. bahut sundar.
    poonam

    ReplyDelete
  5. एक औऱ मीरा हो गई बावरी
    कान्हा के नाम की दुहाई
    देती दर दर है

    ReplyDelete
  6. *********--,_
    ********['****'*********\*******`''|
    *********|*********,]
    **********`._******].
    ************|***************__/*******-'*********,'**********,'
    *******_/'**********\*********************,....__
    **|--''**************'-;__********|\*****_/******.,'
    ***\**********************`--.__,'_*'----*****,-'
    ***`\*****************************\`-'\__****,|
    ,--;_/*******HAPPY INDEPENDENCE*_/*****.|*,/
    \__************** DAY **********'|****_/**_/*
    **._/**_-,*************************_|***
    **\___/*_/************************,_/
    *******|**********************_/
    *******|********************,/
    *******\********************/
    ********|**************/.-'
    *********\***********_/
    **********|*********/
    ***********|********|
    ******.****|********|
    ******;*****\*******/
    ******'******|*****|
    *************\****_|
    **************\_,/

    स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  7. मेरे तो गिरधर गोपाल दूसरो न कोई...

    प्रेम और समर्पण की सुन्दर अभिव्यक्ति की है आपने अपनी रचना के माध्यम से

    ReplyDelete
  8. bahut hi prabhavpurn avam bhakti ras me dubi aapki rachna bhakti bhav ki taraf baha le gai.
    bahut sundar.
    poonam

    ReplyDelete
  9. KYA LIKHA HAI JI .. MAIN TO ISCKON KE MANDIR ME JAA PAHUNCHA JI .. MAN ME BHAKTI RAS BHAR GAYA HAI.. AAPKO SALAAM ..KYA KHOOB LIKHA HAI , MAN KO CHOO GAYI KAVITA .. BADHYI HO

    VIJAY
    आपसे निवेदन है की आप मेरी नयी कविता " मोरे सजनवा" जरुर पढ़े और अपनी अमूल्य राय देवे...
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2010/08/blog-post_21.html

    ReplyDelete
  10. कृष्ण नाम का प्याला पीकर....भूतनाथ में कुछ उमड़ पडा....जो कुछ मन में बहक रहा था....इक बादल सा वो घुमड़ पडा.....!!!

    ReplyDelete
  11. prem pagi kavita ke liye badhai. mahila divas ki shubhkamnayen.

    ReplyDelete
  12. बाल मन के कोमल भाव ने,सजा लिया तुझे नयनों में
    पवित्र ह्रदय की धारा में,बहा लिया है स्वयं को मैंने ....

    wow ..Fantastic !

    .

    ReplyDelete
  13. भक्ति रस से सराबोर रचना|

    ReplyDelete
  14. आपको एवं आपके परिवार को होली की बहुत मुबारकबाद एवं शुभकामनाएँ.

    सादर

    समीर लाल

    ReplyDelete
  15. प्रेम और समर्पण की सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  16. Very Nice ..plz visit my blog http://yogeshamana.blogspot.com/

    ReplyDelete
  17. एक बहुत अच्छी आध्यात्मिक रचना या कहें भजन और शिक्षाप्रद भी समर्पण से ही शान्ति मिलती है श्री कृष्ण शरणं मम

    ReplyDelete
  18. बहुत अच्छा लगा।
    आपको बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  19. आपके ब्लॉग पर पहली दफा आना हुआ.आकर भक्तिरस से सराबोर हो गया है मन मेरा.
    प्रभु में आपकी भक्ति नितप्रति ही इस प्रकार से बढती जाये कि जो भी आपके संपर्क में आये वे भी भक्ति रस में डूब जाएँ.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है.
    आपकी भक्तिमय उपस्थिति की अपेक्षा है.

    ReplyDelete
  20. बहुत ही सुन्दर कृष्ण के प्रेम रस में भीगी हुई कविता ... पढकर मन प्रसन्न हो गया है .. आपको बधाई

    आभार

    विजय

    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  21. मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं,आपकी कलम निरंतर सार्थक सृजन में लगी रहे .
    एस .एन. शुक्ल

    ReplyDelete
  22. बहुत सुंदर,
    आपको बहुत बहुत बधाई,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  23. bahur adbhut prmatma ki tarah

    ReplyDelete
  24. bahut sunder bhav ke sath .adbhut bhav.......

    ReplyDelete
  25. सुन्दर रचना, बहुत सार्थक प्रस्तुति
    , स्वाधीनता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  26. बहुत बहुत बहुत सुन्दर |

    ReplyDelete
  27. प्रिय प्याला जितना उतरेगा,उतना मन में धीर धरेगा
    अपनी नाव प्रेम-धारा में बहा रे,उतरेगा क्षीर -सागर प्रभु द्वारे ......

    बहुत सुदर !!

    ReplyDelete
  28. Bahut hi bhavpurn evm prabhavkari rachna. Aapko evm aapke pariwar ko deepawali ki hardik subhkamna.

    ReplyDelete
  29. दीपावली के पावन पर्व पर आपको मित्रों, परिजनों सहित हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएँ!

    way4host
    RajputsParinay

    ReplyDelete
  30. आपकी प्रस्तुति अच्छी लगी । .मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । दीपावली की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  31. आपके पोस्ट पर आना सार्थक सिद्ध हुआ। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है ।.दीपावली की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  32. लेकर मन में तेरे लिए सरलता...सहजता...और सरसता....
    जिनसे ह्रदय में भरता सदा प्रेमाश्रु
    तुझे पाने का यह उपाय सदा मुझे है सूझता ......

    आपकी भक्तिपूर्ण भावमय अनुपम प्रस्तुति
    हृदय को उल्लासित करती है,पवित्र भाव
    जगाती है.प्रभु से प्रार्थना है भक्ति रस की
    निर्मल धार आपके माध्यम से ब्लॉग जगत को
    पावन कर दे.बहुत बहुत हार्दिक आभार.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर अवश्य आईयेगा.

    ReplyDelete
  33. तुझ से मिलने आऊँगी मैं,तेरे ही बसाये राधे-कुँज में
    लोग कहते है आंसा नहीं है,ह्रदय का तुझ से मिलना
    क्यों नहीं उतरते तेरे नयनों में
    लेकर मन में तेरे लिए सरलता...सहजता...और सरसता....
    जिनसे ह्रदय में भरता सदा प्रेमाश्रु
    तुझे पाने का यह उपाय सदा मुझे है सूझता ......


    Pure and devotional song.

    ReplyDelete
  34. Nice Blog , Plz Visit Me:- http://hindi4tech.blogspot.com ??? Follow If U Lke My BLog????

    ReplyDelete
  35. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.
    आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये आपको और आपके समस्त पारिवारिक जनो को !

    मंगलमय हो आपको दीपो का त्यौहार
    जीवन में आती रहे पल पल नयी बहार
    ईश्वर से हम कर रहे हर पल यही पुकार
    लक्ष्मी की कृपा रहे भरा रहे घर द्वार..

    ReplyDelete
  36. मैं आप सभी की बहुत आभारी हूँ .....
    धन्यवाद ...

    ReplyDelete